कलश स्थापना के साथ शुरू हुआ चैती नवरात्र

कोरोना वायरस के संक्रमण के बीच मंगलवार से चैती नवरात्र प्रारंभ हो गया। कलश स्थापन के साथ ही या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता, नमस्य तस्यै…के मंत्रोच्चार से पूरा वातावरण गुंजने लगे। कोरोना महामारी के कारण इस वर्ष सिर्फ नियमानुसार पूजा अर्चना की जाएगी। इसके अलावा रामनवमी और चौती छठ की तैयारियां भी चल रही है। हिंदू घर्म के पावन पर्वों में चैत्र नवरात्र का विशेष महत्व है। यह हर्षोल्लास से मनाया जाता है। इस दौरान मां दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों की उपासना के साथ व्रत किए जाते हैं। कोरोना संक्रमण को लेकर इस बार पूजा स्थलों पर साफ-सफाई के अतिरिक्त इंतजाम किए जा रहे हैं। कोरोना के नए स्ट्रेस सामने आने के बाद लोग सतर्क हो गए हैं। शारीरिक दूरी और कोविड-19 प्रोट्रोकॉल का विशेष ख्याल रखा जा रहा है। पिछले साल भी मार्च-अप्रैल में होने वाले चैत्र नवरात्र का मेला कोरोना के कारण प्रभावित हो गया था। इस वर्ष भी चैत्र नवरात्र पर एक बार फिर कोरोना संक्रमण का साया दिख रहा है। प्रतिदिन संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है। इसको लेकर लोग घरों में ही पूजा अर्चना के लिए तैयारी में जुटे हैं। बता दें कि जिले में धूमधाम से चैत्र नवरात्र, रामनवमी और चौती छठ पूजा का वृहद आयोजन होता रहा है। कोरोना संक्रमण के बढ़ रहे आंकड़ों को देखकर श्रद्धालुओं में मायूसी छाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *